Maha Lakshmi - மஹாலக்ஷ்மி

ஸம்ஸ்க்ருத  ஸ்தோத்ரங்களைத் தமிழில் சரியாகவும், எளிமையாகவும்  வாசிப்போம்.


महा लक्ष्म्यष्टकम् ||
மஹா லக்ஷ்ம்யஷ்டகம் || 

नमस्तेऽस्तु महामाये श्रीपीठे सुरपूजिते |
शङ्खचक्र गदाहस्ते महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते || 1 ||

நமஸ்தே(அ)ஸ்து மஹாமாயே ஶ்ரீபீடே ஸுரபூஜிதே|
ஶங்சக்ர கதாஹஸ்தே மஹாலக்ஷ்மி நமோ(அ)ஸ்துதே || 1 ||

 नमस्ते गरुडारूढे कोलासुर भयङ्करि |
सर्वपापहरे देवि महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते || 2 || 

நமஸ்தே கருடாரூடேகோலாஸுர ப”யங்கரி |
ஸர்வபாப ஹரே தேவி மஹாலக்ஷ்மி நமோ(அ)ஸ்துதே || 2 || 

सर्वज्ञे सर्ववरदे सर्व दुष्ट भयङ्करि |
सर्वदुःख हरे देवि महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते || 3 || 

ஸர்வஞ்ஞே ஸர்வவரதேஸர்வதுஷ்ட ப”யங்கரி |
ஸர்வது’:க ஹரே தேவி மஹாலக்ஷ்மி நமோ(அ)ஸ்துதே || 3 || 

सिद्धि बुद्धि प्रदे देवि भुक्ति मुक्ति प्रदायिनि |
मन्त्र मूर्ते सदा देवि महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते || 4 || 

ஸித்’தி”புத்’தி” ப்ரதேதேவி பு”க்தி முக்தி ப்ரதாயினி|
மந்த்ரமூர்த்தே ஸதாதேவி மஹாலக்ஷ்மி நமோ(அ)ஸ்துதே || 4 || 

आद्यन्त रहिते देवि आदिशक्ति महेश्वरि |
योगज्ञे योग सम्भूते महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते || 5 || 

ஆத்யந்த ரஹிதே தேவி ஆதிஶக்தி மஹேஶ்வரி|
யோகஞ்ஞே யோகஸம்பூ”தே மஹாலக்ஷ்மி நமோ(அ)ஸ்துதே || 5 || 

स्थूल सूक्ष्म महारौद्रे महाशक्ति महोदरे |
महा पाप हरे देवि महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते || 6 || 

ஸ்தூல ஸூக்ஷ் மமஹா ரௌத்ரே மஹாஶக்தி மஹோதரே|
மஹாபாப ஹரே தேவி மஹாலக்ஷ்மி நமோ(அ)ஸ்துதே || 6 || 

पद्मासन स्थिते देवि परब्रह्म स्वरूपिणि |
परमेशि जगन्मातः महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते || 7 || 

பத்மாஸந ஸ்திதே தேவி பரப்ரஹ்ம ஸ்வரூபிணி|
பரமேஶி ஜகன்மாத: மஹாலக்ஷ்மி நமோ(அ)ஸ்துதே || 7 || 

श्वेताम्बरधरे देवि नानालङ्कार भूषिते |
जगस्थिते जगन्मातः महालक्ष्मि नमोऽस्तु ते || 8 || 

ஶ்வேதாம்பத”ரே தேவி நானாலங்கார பூ”ஷிதே|
ஜகஸ்திதே ஜகன்மாத: மஹாலக்ஷ்மி நமோ(அ)ஸ்துதே || 8 || 

महालक्ष्मष्टकं स्तोत्रं यः पठेद् भक्तिमान् नरः |
सर्व सिद्धि मवाप्नोति राज्यं प्राप्नोति सर्वदा || 

மஹாலக்ஷ்ம்யஷ்டகம் ஸ்தோத்ரம் ய:டேத்’ ப”க்திமான் நர:|
ஸர்வஸித்’தி”மவாப்னோதி ராஜ்யம் ப்ராப்னோதி ஸர்வதா || 

एककाले पठेन्नित्यं महापाप विनाशनं |
द्विकालं यः पठेन्नित्यं धन धान्य समन्वितः || 

ஏககாலே படேந்நித்யம் மஹாபாப விநாஶனம் |
த்விகாலம் ய:டேந்நித்யம் த”தா”ன்ய ஸமன்வித: || 

त्रिकालं यः पठेन्नित्यं महाशत्रु विनाशनं |
महालक्ष्मी र्भवेन्-नित्यं प्रसन्ना वरदा शुभा || 

த்ரிகாலம் ய:டேந்நித்யம் மஹாஶத்ரு விநாஶனம் |
மஹாலக்ஷ்மீர் ப”வேந்நித்யம் ப்ரஸன்னா வரதாஶுபா” || 

இந்த்ரக்ருத ஶ்ரீமஹாலக்ஷ்ம்யஷ்டக ஸ்தோத்ரம் ஸம்பூர்ணம் ||