AmbaaL - அம்பா'ள்

ஸம்ஸ்க்ருத  ஸ்தோத்ரங்களைத் தமிழில் சரியாகவும், எளிமையாகவும்  வாசிப்போம்.


1. மீனாக்ஷீபஞ்சரத்னம்

2. லலிதாபஞ்சரத்னம்

3. ஸ்ரீஅன்னபூர்ணாஸ்தோத்ரம்

4. துர்காபஞ்சரத்னம்


मीनाक्षीपञ्चरत्नम् ||

மீனாக்ஷீபஞ்சரத்னம்||

उद्यद्भानुसहस्रकॊटिसदृशां कॆयूरहारॊज्ज्वलां
बिम्बॊष्ठीं स्मितदन्तपंक्तिरुचिरां पीताम्बरालङ्कृताम्।
विष्णुब्रह्मसुरॆन्द्रसॆवितपदां तत्त्वस्वरूपां शिवां
मीनाक्षीं प्रणतोऽस्मि संततमहं कारुण्यवारांनिधिम्॥१॥ 

உத்யத்பா”னு-ஸஹஸ்ரகோடி-ஸத்ருஶாம்
   கேயூர-ஹாரோஜ்ஜ்வலாம்
பிம்போஷ்டீம் ஸ்மிததந்த-பங்க்திருசிராம்
  பீதாம்பராலங்க்ருதாம்।
விஷ்ணு-ப்ரஹ்ம-ஸுரேந்த்ர-ஸேவித-பதாம்
   தத்வஸ்வரூபாம் ஶிவாம்
மீனாக்ஷீம் ப்ரணதோ(அ)ஸ்மி ஸந்ததமஹம்
   காருண்ய-வாராம்-நிதி”ம்॥ 1 || 

मुक्ताहारलसत्किरीटरुचिरां पूर्णॆन्दुवक्त्रप्रभां
शिञ्जन्नूपुरकिङ्किणीमणिधरां पद्मप्रभाभासुराम्।
सर्वाभीष्टफलप्रदां गिरिसुतां वाणीरमासॆवितां
मीनाक्षीं प्रणतॊऽस्मि संततमहं कारुण्यवारांनिधिम्॥२॥ 

முக்தாஹார-லஸத்-கிரீடருசிராம்
   பூர்ணேந்து’-வக்த்ரப்ரபா”ம்
ஶிஞ்ஜந்நூபுர-கிங்கிணீ-மணித”ராம்
  பத்மப்ரபா”-பா”ஸுராம்।
ஸர்வாபீ”ஷ்ட-லப்ரதாம் கிரிஸுதாம்
   வாணீரமா-ஸேவிதாம்
மீனாக்ஷீம் ப்ரணதோ(அ)ஸ்மி ஸந்ததமஹம்
   காருண்ய-வாராம்-நிதி”ம்॥ 2 || 

श्रीविद्यां शिववामभागनिलयां ह्रींकारमन्त्रॊज्ज्वलां
श्रीचक्राङ्कितबिन्दुमध्यवसतिं श्रीमत्सभानायिकाम्।
श्रीमत्षण्मुखविघ्नराजजननीं श्रीमज्जगन्मॊहिनीं
मीनाक्षीं प्रणतॊऽस्मि संततमहं कारुण्यवारांनिधिम्॥३॥ 

ஶ்ரீவித்யாம் ஶிவவாம-பா”நிலயாம்
   ஹ்ரீம்கார-மந்த்ரோஜ்ஜ்வலாம்
ஶ்ரீசக்ராங்கித-பிந்து’-த்”யவஸதிம்
   ஶ்ரீமத்-ஸபா”-நாயிகாம்।
ஶ்ரீமத்ஷண்முக-விக்”னராஜ-ஜனனீம்
    ஶ்ரீமஜ்ஜகன்மோஹினீம்
மீனாக்ஷீம் ப்ரணதோ(அ)ஸ்மி ஸந்ததமஹம்
   காருண்ய-வாராம்-நிதி”ம்॥ 3 || 

श्रीमत्सुन्दरनायिकां भयहरां ज्ञानप्रदां निर्मलां
श्यामाभां कमलासनार्चितपदां नारायणस्यानुजाम्।
वीणावॆणुमृदङ्गवाद्यरसिकां नानाविधामम्बिकाम्
मीनाक्षीं प्रणतोऽस्मि संततमहं कारुण्यवारांनिधिम्॥४॥ 

ஶ்ரீமத்ஸுந்தர-நாயிகாம் ப”யஹராம்
   ஞ்ஞானப்ரதாம் நிர்மலாம்
ஶ்யாமாபா”ம் கமலாஸநார்ச்சித-பதாம்
   நாராயணஸ்யானுஜாம்।
வீணாவேணு-ம்ருதங்க-வாத்ய-ரஸிகாம்
   நானா-விதா”மம்பிகாம்
மீனாக்ஷீம் ப்ரணதோ(அ)ஸ்மி ஸந்ததமஹம்
    காருண்ய-வாராம்-நிதி”ம்॥ 4 || 

नानायॊगिमुनीन्द्रहृन्निवसतिं नानार्थसिद्धप्रदां
नानापुष्पविराजिताङ्घ्रियुगळां नारायणॆनार्चिताम्।
नादब्रह्ममयीं परात्परतरां नानार्थतत्त्वात्मिकां
मीनाक्षीं प्रणतॊऽस्मि संततमहं कारुण्यवारांनिधिम्॥५॥   

நாநாயோகி-முனீந்த்ர-ஹ்ருந்நிவஸதிம்
  நானார்த்த-ஸித்’தி”-ப்ரதாம்
நானாபுஷ்ப-விராஜிதாங்க்"ரி-யுகளாம்
   நாராயணேனார்ச்சிதாம்।
நாதப்ரஹ்ம-மயீம் பராத்பரதராம்
   நானார்த்-தத்வாத்மிகாம்
மீனாக்ஷீம் ப்ரணதோ(அ)ஸ்மி ஸந்ததமஹம்
   காருண்ய-வாராம்-நிதி"ம்॥ 5 || 

மீனாக்ஷீபஞ்சரத்னம் ஸம்பூர்ணம் || 


श्रीललितापञ्चरत्नम् ||
ஶ்ரீலலிதா பஞ்சரத்னம் || 

प्रातः स्मरामि ललिता-वदनारविन्दं
बिम्बाधरं पृथुल-मौक्तिक-शोभिनासम्।
आकर्ण-दीर्घनयनं मणिकुण्डलाढ्यं
मन्दस्मितं मृगमदोज्ज्वल-फालदॆशम्॥१॥ 

ப்ராத: ஸ்மராமி லலிதா-வதனாரவிந்தம்
பிம்பா’த”ரம் ப்ருதுல-மௌக்திக-ஶோபி”நாஸம்।
ஆகர்ண-தீர்க்க”-நயனம் மணிகுண்டலாட்”யம்
மந்தஸ்மிதம் ம்ருகமதோஜ்ஜ்வல-பாலதேஶம்॥ 1 ॥ 

प्रातर्भजामि ललिता-भुजकल्पवल्लीं
रक्ताङ्गुळीयलसदङ्गुळि-पल्लवाढ्याम्।
माणिक्य-हॆमवलयाङ्गद-शोभमानां
पुण्ड्रॆक्षु-चापकुसुमॆषु-सृणीर्दधानाम्॥२॥ 

ப்ராதர்ப”ஜாமி லலிதா-பு”ஜகல்பவல்லீம்
ரக்தாங்குளீயலஸதங்குளி-பல்லவாட்”யாம்।
மாணிக்ய-ஹேம வலயாங்க’-ஶோப”மானாம்
புண்ட்ரேக்ஷு-சாபகுஸுமேஷு-ஸ்ருணீர்த’தா”னாம்॥ 2 ॥ 

प्रातर्नमामि ललिता-चरणारविन्दं
भक्तॆष्टदाननिरतं भवसिन्धुपोतम्।
पद्मासनादि-सुरनायक-पूजनीयं
पद्माङ्कुशध्वज-सुदर्शन-लाञ्छनाढ्यम्॥३॥ 

ப்ராதர்நமாமி லலிதா-சரணாரவிந்தம்
ப”க்தேஷ்ட தானநிரதம் ப”வஸிந்து”போதம்।
பத்மாஸநாதி’-ஸுரநாயக-பூஜநீயம்
பத்மாங்குஶத்”வஜ-ஸுதர்ஶன-லாஞ்நாட்”யம்॥ 3 || 

प्रातःस्तुवॆ परशिवां ललितां भवानीं
त्रय्यन्तवॆद्यविभवां करुणानवद्याम्।
विश्वस्य सृष्टिविलयस्थिति-हॆतुभूतां
विद्यॆश्वरीं निगमवाङ्मनसातिदूराम्॥४॥ 

ப்ராத: ஸ்துதே பரஶிவாம் லலிதாம் ப”வாநீம்
த்ரய்யந்த-வேத்யவிப”வாம் கருணாநவத்யாம்।
விஶ்வஸ்ய ஸ்ருஷ்டி-விலயஸ்திதி-ஹேதுபூ”தாம்
வித்யேஶ்வரீம் நிகம-வாங்மனஸாதி-தூராம்॥ 4 ||

प्रातर्वदामि ललितॆ तव पुण्यनाम
कामॆश्वरीति कमलॆति महॆश्वरीति।
श्रीशाम्भवीति जगतांजननी परॆति
वाग्दॆवतॆति वचसा त्रिपुरॆश्वरीति॥५॥ 

ப்ராதர்வதாமி லலிதே தவ புண்யநாம
காமேஶ்வரீதி கமலேதி மஹேஶ்வரீதி।
ஶ்ரீஶாம்ப”வீதி ஜகதாம் ஜனனீ பரேதி
வாக்தேவதேதி வசஸா த்ரிபுரேஶ்வரீதி॥ 5 || 

यः श्लोक-पञ्चकमिदं ललिताम्बिकायाः
सौभाग्यदं सुललितं पठति प्रभातॆ।
तस्मै ददाति ललिता झटिति प्रसन्ना
विद्यां श्रियं विमलसौख्यमनन्तकीर्तिम्॥६॥ 

ய: ஶ்லோக-பஞ்சகமிதம் லலிதாம்பிகாயா:
ஸௌபா”க்யதம் ஸுலலிதம் பதி ப்ரபா”தே।
தஸ்மை ததாதி லலிதா ஜ”டிதி ப்ரஸன்னா
வித்யாம் ஶ்ரியம் விமல-ஸௌக்யமநந்த-கீர்த்திம்॥6 || 

ஶ்ரீலலிதா பஞ்சரத்னம் ஸம்பூர்ணம் ||


श्रीअन्नपूर्णास्तोत्रम्॥
ஸ்ரீஅன்னபூர்ணா ஸ்தோத்ரம்॥ 

नित्यानन्दकरी वराभयकरी सौन्दर्यरत्नाकरी
निर्धूताखिलदोषपावनकरी प्रत्यक्षमाहेश्वरी ।
प्रालेयाचलवंशपावनकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥ १॥ 

நித்யானந்தகரீ வராப”யகரீ ஸௌந்தர்ய-ரத்னாகரீ
நிர்தூ”தாகில-தோஷபாவநகரீ ப்ரத்யக்ஷ-மாஹேஶ்வரீ ।
ப்ராலேயாசல-வம்ஶபாவநகரீ காஶீபுராதீ”ஶ்வரீ
பி”க்ஷாம் தேஹி க்ருபாவலம்பநகரீ மாதா(அ)ன்னபூர்ணேஶ்வரீ ॥ 1 || 

नानारत्नविचित्रभूषणकरी हेमाम्बराडम्बरी
मुक्ताहारविलम्बमानविलसद्वक्षोजकुम्भान्तरी ।
काश्मीरागरुवासिता-रुचिकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी ॥ २॥ 

நானாரத்ன-விசித்ர-பூ”ஷணகரீ ஹேமாம்பராடம்பரீ
முக்தாஹார-விலம்பமானவிலஸத்’-வக்ஷோஜ-கும்பா”ந்தரீ ।
காஶ்மீராகருவாஸிதா-ருசிகரீ காஶீபுராதீ”ஶ்வரீ
பி”க்ஷாம் தேஹி க்ருபாவலம்பநகரீ மாதா(அ)ன்னபூர்ணேஶ்வரீ ॥ 2 || 

योगानन्दकरी रिपुक्षयकरी धर्मैकनिष्ठाकरी
चन्द्रार्कानलभासमानलहरी त्रैलोक्यरक्षाकरी ।
सर्वैश्वर्यकरी तप:फलकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी ॥ ३॥ 

யோகானந்தகரீ ரிபுக்ஷயகரீ த”ர்மைகனிஷ்டாகரீ
சந்த்ரார்கானல-பா”ஸமானலஹரீ த்ரைலோக்ய ரக்ஷாகரீ ।
ஸர்வைஶ்வர்யகரீ தப:பலகரீ காஶீபுராதீ”ஶ்வரீ
பி”க்ஷாம் தேஹி க்ருபாவலம்பநகரீ மாதா(அ)ன்னபூர்ணேஶ்வரீ ॥ 3 || 

कैलासाचलकन्दरालयकरी गौरी उमा शाङ्करी
कौमारी निगमार्थगोचरकरी ओङ्कारबीजाक्षरी ।
मोक्षद्वारकपाटपाटनकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी ॥ ४॥ 

கைலாஸாசல-கந்தராலயகரீ கௌரீ உமா ஶாங்கரீ
கௌமாரீ நிகமார்த்த-கோசரகரீ ஓங்கார-பீஜாக்ஷரீ ।
மோக்ஷத்வார-கபாட-பாடநகரீ காஶீபுராதீ”ஶ்வரீ
பி”க்ஷாம் தேஹி க்ருபாவலம்பநகரீ மாதா(அ)ன்னபூர்ணேஶ்வரீ ॥ 4 || 

दृश्यादृश्यविभूतिवाहनकरी ब्रह्माण्डभाण्डोदरी
लीलानाटकसूत्रभेदनकरी विज्ञानदीपाङ्कुरी ।
श्रीविश्वेशमनःप्रसादनकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी ॥ ५॥ 

த்ருஶ்யாத்ருஶ்ய-விபூ”தி வாஹனகரீ ப்ரஹ்மாண்ட’-பா”ண்டோதரீ
லீலாநாடக-ஸூத்ர-பே”நகரீ விஞ்ஞானதீபாங்குரீ ।
ஶ்ரீவிஶ்வேஶ-மன:ப்ரஸாதநகரீ காஶீபுராதீ”ஶ்வரீ
பி”க்ஷாம் தேஹி க்ருபாவலம்பநகரீ மாதா(அ)ன்னபூர்ணேஶ்வரீ ॥ 5 || 

उर्वी सर्वजनेश्वरी जयकरी माता कृपासागरी
वेणीनीलसमानकुन्तलधरी नित्यान् दानेश्वरी ।
साक्षान्मोक्षकरी सदा शुभकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी ॥ ६॥ 

உர்வீ ஸர்வ ஜனேஶ்வரீ ஜயகரீ மாதா க்ருபாஸாகரீ
வேணீ-நீலஸமான-குந்தலத”ரீ நித்யான்ன-தானேஶ்வரீ।
ஸாக்ஷான்மோக்ஷகரீ ஸதாஶுப”கரீ காஶீபுராதீ”ஶ்வரீ
பி”க்ஷாம் தேஹி க்ருபாவலம்பநகரீ மாதா(அ)ன்னபூர்ணேஶ்வரீ ॥ 6 || 

आदिक्षान्तसमस्तवर्णनकरी शम्भोस्त्रिभावाकरी
काश्मीरा त्रिपुरेश्वरी त्रिनयनी विश्वेश्वरी शर्वरी ।
स्वर्गद्वारकपाटपाटनकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी ॥ ७॥ 

ஆதிக்ஷாந்த ஸமஸ்த வர்ணநகரீ ஶம்போ”ஸ்த்ரி பா”வாகரீ
காஶ்மீரா த்ரிபுரேஶ்வரீ த்ரிநயனீ விஶ்வேஶ்வரீ ஶர்வரீ ।
ஸ்வர்க்கத்வார-கபாட-பாடநகரீ காஶீபுராதீ”ஶ்வரீ
பி”க்ஷாம் தேஹி க்ருபாவலம்பநகரீ மாதா(அ)ன்னபூர்ணேஶ்வரீ ॥ 7 || 

देवी सर्वविचित्र रत्नरचिता दाक्षायणी सुन्दरी
वामेस्वादुपयोधराप्रियकरी सौभाग्य माहेश्वरी ।
भक्ताभीष्टकरी सदा शुभकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी॥ ८॥ 

தேவீ ஸர்வ விசித்ர ரத்ன ரசிதாதாக்ஷாயணீ ஸுந்தரீ
வாமேஸ்வாது’-பயோத”ராப்ரியகரீ ஸௌபா”க்ய-மாஹேஶ்வரீ।
ப”க்தாபீ”ஷ்டகரீ ஸதாஶுப”கரீ காஶீபுராதீ”ஶ்வரீ
பி”க்ஷாம் தேஹி க்ருபாவலம்பநகரீ மாதா(அ)ன்னபூர்ணேஶ்வரீ ॥ 8 || 

चन्द्रार्कानलकोटिकोटिसदृशा चन्द्रांशुबिम्बाधरी
चन्द्रार्काग्निसमानकुण्डलधरी चन्द्रार्कवर्णेश्वरी ।
मालापुस्तकपाशसाङ्कुशधरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी ॥ ९॥ 

சந்த்ரார்கானல-கோடிகோடிஸத்ருஶா சந்த்ராம்ஶு-பிம்பா’த”ரீ
சந்த்ரார்காக்னி-ஸமானகுண்டத”ரீ சந்த்ரார்க-வர்ணேஶ்வரீ ।
மாலாபுஸ்தக-பாஶஸாங்குஶத”ரீ காஶீபுராதீ”ஶ்வரீ
பி”க்ஷாம் தேஹி க்ருபாவலம்பநகரீ மாதா(அ)ன்னபூர்ணேஶ்வரீ ॥ 9 || 

क्षत्रत्राणकरी महाऽभयकरी माता कृपासागरी
सर्वानन्दकरी सदा शिवकरी विश्वेश्वरी श्रीधरी ।
दक्षाक्रन्दकरी निरामयकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी ॥ १०॥ 

க்ஷத்ரத்ராணகரீ மஹா(அ)ப”யகரீ மாதா க்ருபாஸாகரீ
ஸர்வானந்தகரீ ஸதா ஶிவகரீ விஶ்வேஶ்வரீ ஶ்ரீத”ரீ ।
க்ஷாக்ரந்தகரீநிராமயகரீ காஶீ புராதீ”ஶ்வரீ
பி”க்ஷாம் தேஹி க்ருபாவலம்பநகரீ மாதா(அ)ன்ன பூர்ணேஶ்வரீ ॥ 10 || 

अन्नपूर्णे सदापूर्णे शङ्करप्राणवल्लभे ।
ज्ञानवैराग्यसिद्ध्यर्थं भिक्षां मे देहि पार्वति ॥ ११॥ 

அன்னபூர்ணே ஸதாபூர்ணே ஶங்கர-ப்ராணவல்லபே”
ஞானவைராக்ய-ஸித்’த்”யர்த்ம் பி”க்ஷாம் மே  தேஹி பார்வதி ॥ 11 ॥ 

माता च पार्वती देवी पिता देवो महेश्वरः ।
बान्धवाः शिवभक्ताश्च स्वदेशो भुवनत्रयम् ॥ १२॥ 

மாதா ச பார்வதீ தேவீ பிதா தேவோ மஹேஶ்வர: ।
பாந்த”வா: ஶிவப”க்தாஶ்ச ஸ்வதேஶோ பு”வனத்ரயம்॥ 12 ॥

அன்னபூர்ணா ஸ்தோத்ரம் ஸம்பூர்ணம் ||

दुर्गापंचरत्नम् ||

துர்கா-பஞ்சரத்னம் ||

(ஸ்ரீ மஹா பெரியவாள் அருளியது)

 

ते ध्यानयोगानुगता: अपश्यन्

देवात्मशक्तिं स्वगुणै: निगूढाम् ।

त्वमेव शक्तिः परमेश्वरस्य

मां पाहि सर्वेश्वरि मोक्षदात्रि ॥ १ ॥

 

தே த்”யானயோகானுகதா: அபஶ்யன்
தேவாத்மஶக்திம் ஸ்வகுணை: நிகூ’டா”ம் ।
த்வமேவ ஶக்தி: பரமேஶ்வரஸ்ய
மாம் பாஹி ஸர்வேஶ்வரி மோக்ஷதாத்ரி ॥ 1 ॥


देवात्मशक्तिः श्रुतिवाक्यगीता

महर्षिलोकस्य पुरः प्रसन्ना ।

गुहा परं व्योम सतः प्रतिष्ठा

मां पाहि सर्वेश्वरि मोक्षदात्रि ॥ २ ॥

 

தேவாத்மஶக்தி: ஶ்ருதிவாக்யகீதா

மஹர்ஷிலோகஸ்ய புர: ப்ரஸன்னா ।
குஹா பரம் வ்யோம ஸத: ப்ரதிஷ்டா
மாம் பாஹி ஸர்வேஶ்வரி மோக்ஷதாத்ரி ॥ 2 ॥

 

परा अस्य शक्तिः विविधैव श्रूयसे

श्वेताश्व-वाक्योदितदेवि दुर्गे ।

स्वाभाविकी ज्ञानबलक्रिया ते

मां पाहि सर्वेश्वरि मोक्षदात्रि ॥ ३ ॥

 

பரா அஸ்ய ஶக்தி: விவிதை”வ ஶ்ரூயஸே

ஶ்வேதாஶ்வ-வாக்யோதித-தேவி துர்கே

ஸ்வாபா”விகீ ஞ்ஞான-பலக்ரியா தே
மாம் பாஹி ஸர்வேஶ்வரி மோக்ஷதாத்ரி ॥ 3 ॥


देवात्मशब्देन शिवात्मभूता

यत्कूर्म-वायव्य-वचो-विवृत्या ।

त्वं पाशविच्छेदकरी प्रसिद्धा

मां पाहि सर्वेश्वरि मोक्षदात्रि ॥ ४ ॥

 

தேவாத்மஶப்தேன ஶிவாத்மபூ”தா
யத்கூர்ம-வாயவ்ய-வசோ-விவ்ருத்யா ।
த்வம் பாஶவிச்சேகரீ ப்ரஸித்’தா”
மாம் பாஹி ஸர்வேஶ்வரி மோக்ஷதாத்ரி ॥ 4 ॥


त्वं ब्रह्मपुच्छा विविधा मयूरी

ब्रह्म प्रतिष्ठासि उपदिष्टगीता ।

ज्ञानस्वरूपात्मतया अखिलानां

मां पाहि सर्वेश्वरि मोक्षदात्रि ॥ ५ ॥


த்வம் ப்ரஹ்மபுச்சா விவிதா” மயூரீ
ப்ரஹ்ம ப்ரதிஷ்டாஸி உபதிஷ்டகீதா ।
ஞ்ஞான-ஸ்வரூபாத்மதயா அகிலானாம்
மாம் பாஹி ஸர்வேஶ்வரி மோக்ஷதாத்ரி ॥ 5 ॥

 

துர்கா பஞ்சரத்னம் ஸம்பூர்ணம் ||